राष्ट्रीय एकता दिवस- National Unity Day 2022

राष्ट्रीय एकता दिवस (National Unity Day):-भारत बनाने में सरदार पटेल के योगदान को सम्मान देने के लिए उनके जन्मदिन को राष्ट्रीय एकता दिवस के रूप में मनाने का फैसला 2014 में किया था।

अब हर साल 31 अक्टूबर को भारत में लौह पुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल के जन्मदिन को राष्ट्रीय एकता दिवस के रूप में मनाया जाता है।

राष्ट्रीय एकता दिवस – National Unity Day

राष्ट्रीय एकता दिवस

(National Unity Day) एकता दिवस लौह पुरुष सरदार बल्लव भाई पटेल के शुभ तिथि के अवसर पर 31 अक्टूबर को मनाया जाता है।

राष्ट्रीय एकता दिवस (National Unity Day) पहली बार 2014 में 31 अक्टूबर को मनाया गया।

उसके बाद प्रतिवर्ष 31 अक्टूबर को बहुत ही धूम धाम से मनाया जाता हैं।

एकता दिवस इसका मुख्य उद्देश्य राष्ट्र को एक साथ लाना है. तथा देश के भविष्य को बेहतर बनाना है।

सरदार पटेल का जीवन परिचय

सरदार पटेल का जन्म 31 अक्टूबर 1857 में गुजरात के नाडियाड में हुआ था।

इनका पूरा नाम बल्लबभाई झारेवभाई पटेल था लेकिन भारतीय लोग इनको प्यार से सरदार पटेल कहते थे।

इनकी माता का नाम लदबा पटेल (Ladba Patel) तथा पिता का नाम झावरभाई पटेल था।

सरदार बल्लबभाई पटेल ने देश के एकीकरण में मुख्य भूमिका निभाई।

इन्होने ने अपनी बुद्धि विवेक तथा सूझ-बुझ से 500 से अधिक देशी रियासतों को देश में विलय कराया।

यह सभी रियासतें वर्तमान भारत की कुल क्षेत्रफल का 40% थी।

आजादी के बाद सरदार बल्लबभाई पटेल पटेल भारत के पहले उप प्रधानमंत्री तथा गृह मंत्री बने थे।

लौह पुरुष बल्लबभाई पटेल की सूझबूझ का यह नतीजा है की आज भारत एक सम्पूर्ण भारत है। अगर उस समय दूसरे नेताओं की चलती तो भारत के कई टुकड़े हो गए होते।

इनकी उपलब्धियों की बात करे तो बहुत ही सराहनी है क्योकि इनको पटेल जी के अलावा कोई नहीं कर सकता था।

इनकी मृत्यु 15 दिसंबर 1950 में मुंबई हुयी थी।

सरदार पटेल जी याद में गुजरात में Statue Of Unity का निर्माण किया गया है।

सरदार बल्लबभाई पटेल की यह प्रतिमा दुनिया की सबसे ऊँची प्रतिमा है। इसकी ऊंचाई लगभग 182 मीटर (597 Fit) है।

1 thought on “राष्ट्रीय एकता दिवस- National Unity Day 2022”

Comments are closed.